प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना (PMKSY) Per Drop More Crop, Har Khet ko Pani

By | August 14, 2020

प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना, भारत सरकार जल संरक्षण को प्राथमिक आधार पर प्रमुखता देने के लिए प्रतिबद्ध है । भारत सरकार प्रमुख रूप से हर खेत को पानी के अपने लक्ष्य को पूर्ण करने के लिए काफी समय से लंबित बड़ी सिंचाई योजनाओं को पूरा करने के लिए प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना की शुरुआत की है । सरकार के अनुसार जहां भी संभव हो सके वहां नदियों को आपस में जोड़ने के विकल्पों पर भी बेहद गंभीरता के साथ विचार किया जा रहा है ।

PM Kisan Samman Nidhi Yojana 2020

सरकारी आंकड़ों के अनुसार देश में लगभग 141 मिलियन हेक्टेयर क्षेत्र बुवाई के लिए उपलब्ध है । इसमें से वर्तमान में सिर्फ 45% क्षेत्र जोकि लगभग 65 मिलीयन हेक्टेयर भूमि सिंचाई के तहत आती है । हमारे देश में सिंचाई के संसाधनों की कमी एवं वर्षा पर अत्यधिक निर्भरता कम सिंचाई वाले क्षेत्रों में खेती को जो बनाती है । जिसके लिए भारत सरकार ने प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना बनाई है ।

प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना

सरकार की प्राथमिकता बाढ़ एवं सूखे को रोकने के लिए अपने जल संसाधनों का बेहतरीन से बेहतरीन इस्तेमाल करना है । सरकार पानी की प्रत्येक बूंद से अधिक से अधिक फसल सुनिश्चित करने के लिए सिंचाई के विभिन्न प्रक्रियाओं को अपनाने पर जोर दे रही है ताकि अधिक से अधिक जल संरक्षण किया जा सके और भूमिगत जल सर को बढ़ाया जा सके ।

प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना

इस योजना के अंतर्गत देश में सभी कृषि क्षेत्रों में सिंचाई के संसाधनों को सुनिश्चित किया जाएगा । इस योजना के अंतर्गत प्रति बूंद अधिक फसल के साथ ग्रामीण क्षेत्रों में अधिक समृद्धि लाई जा सकेगी ।

प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना – मुख्य उद्देश्य

पीएमकेएसवाई के मुख्य उद्देश्य निम्नलिखित हैं :-

  • जिला एवं उप जिला स्तर पर जल उपयोग योजनाएं । देश के प्रत्येक खेत तक सुनिश्चित सिंचाई के संसाधनों को उपलब्ध करवाना ।
  • नए एवं उत्तम तरीकों वह उचित प्रौद्योगिकी के माध्यम से जल का वितरण एवं सटीक प्रयोग करना ।
  • जल संरक्षण की नई पद्धतियों की शुरुआत करना ।
  • कम पानी में ज्यादा फसल वाली सिंचाई पद्धति को लोकप्रिय बनाना|
  • भूमि एवं जल संरक्षण, नदियों का प्रवाह बढ़ाना एवं अन्य आज प्रदान करते हुए वर्षा सिंचित क्षेत्रों के विकास को सुनिश्चित करना ।
  • सिंचाई से संबंधित महत्वपूर्ण निवेश आकर्षित करना ।

इस योजना के अंतर्गत किसानों के लिए सिंचाई उपकरणों की खरीद पर सब्सिडी प्रदान की जाएगी । इस योजना के अंतर्गत किसानों को उन समस्त योजनाओं के लिए सब्सिडी प्रदान की जाएगी जिसके तहत पानी एवं लागत में बचत की जा सकेगी ।

  दिल्ली ड्राइवर योजना    प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना
  प्रधानमंत्री किसान सम्मान योजना     प्रधानमंत्री उज्ज्वला योजना
  बिहारी प्रवासी मजदूर सहायता योजना
  बिहार कोरोनावायरस सहायता ऐप 
  Covid-19 E-Pass    बिहार राशन कार्ड की नई सूची
  अस्थाई राशन कार्ड – दिल्ली   1000 Rs कोरोना सहायता योजना – बिहार

इस योजना में सम्मिलित होने वाले सभी किसानों को संबंधित तकनीक की जानकारी प्रदान करने के लिए 2 दिन का प्रशिक्षण दिया जाएगा । सरकार किसानों को उन सिंचाई प्रणालियों को अपनाने के लिए सलाह दे रही है जिन सिंचाई प्रणाली से ना सिर्फ पानी की बचत होती है बल्कि कम मेहनत में ज्यादा पैदावार प्राप्त की जा सकती है।

प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना – लाभ लेने के लिए पात्रता

  • (PMKSY) में हर वर्ग के किसान पात्र हो सकते हैं।
  • इस योजना के अंतर्गत किसान के पास खुद की भूमि सहित सिंचाई के साधन भी होने चाहिए ।
  • कोई भी हेल्प ग्रुप, ट्रस्ट, इनकॉरपोरेटेड कंपनी, सहकारी समिति एवं किसानों के समूह के सदस्य इस योजना से लाभ प्राप्त कर सकते हैं ।
  • जो किसान पिछले 7 वर्षों से लीज एग्रीमेंट के तहत कॉन्ट्रैक्ट फार्मिंग करता है । उनको इस योजना के तहत लाभ मिलेगा ।

प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना- जरूरी दस्तावेज

  • आधार कार्ड |
  • भूमि से संबंधित दस्तावेज|
  • किसान के बैंक खाते की पासबुक के प्रथम पृष्ठ की फोटोकॉपी |

किसान किसी भी प्रकार के या किसी भी संबंध में अगर कोई समस्या का सामना करते हैं तो नीचे दिए गए टेलीफोन नंबर पर फोन करके जानकारी प्राप्त कर सकते हैं ।

  • किसान टोल फ्री –  किसान कॉल सेंटर — 1800-180-1551

जो भी किसान प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना से संबंधित अधिकृत गाइडलाइन प्राप्त करना चाहता है तो नीचे दिए गए लिंक पर क्लिक करें एवं दिए गए विवरण को अच्छी तरह से पढ़ें । इस गाइडलाइन में प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना से संबंधित जानकारियां दी गई हैं ।

Official Guideline in Hindi  Click Here
PM Krishi Sinchayee Yojana (PMKSY)  Check Here

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *